वासवदत्ता

By आचार्य चतुरसेन शास्त्री 842 पढ़ा गया | 1.0 out of 5 (1 रेटिंग्स)
Literature & Fiction Adventure Mini-SeriesEnded7 एपिसोड्स
कौशाम्बी के महाराजा उदयन के वीणावादन की कीर्ति दूर-दूर तक थी। जब यह कीर्ति उज्जयिनी की राजकुमारी वासवदत्ता तक पहुँची, उसने उदयन से यह विद्या सीखने का निश्चय कर लिया। वासवदत्ता के पिता चण्डमहासेन पुत्री प्रेम में उदयन को बंदी बना लाए। किंतु फिर भी कला साधना के क्षणों में दोनों के बीच असीम प्रेम उत्पन्न हो गया। आचार्य चतुरसेन की यह कथा उदयन और वासवदत्ता की स्नेहिल भावनाओं का श्रेष्ठ चित्रण है।
रेटिंग्स और रिव्युज़
1 रेटिंग्स
1.0 out of 5
पूर्व गतिविधि
"Smriti Prakash"

पुरानी कथा होते हुए भी जीवन मूल्यों से रहितRead more

4 Mins 260 पढ़ा गया 0 कमेंट
एपिसोड 2 02-03-2022
2 Mins 180 पढ़ा गया 0 कमेंट
एपिसोड 3 02-03-2022
3 Mins 179 पढ़ा गया 5 कमेंट
एपिसोड 4 14-03-2022
3 Mins 79 पढ़ा गया 0 कमेंट
एपिसोड 5 14-03-2022
3 Mins 46 पढ़ा गया 0 कमेंट
एपिसोड 6 14-03-2022
3 Mins 46 पढ़ा गया 0 कमेंट
एपिसोड 7 14-03-2022
3 Mins 52 पढ़ा गया 0 कमेंट

ऐसे ही अन्य