पाँच मिनट

By योगेन्द्र आहूजा 908 पढ़ा गया | 5.0 out of 5 (1 रेटिंग्स)
Literature & Fiction Politics Mini-SeriesEnded20 एपिसोड्स
'पाँच मिनट' लंबे काल खंड की घटनाओं को एक क्रम में पिरोती है। उन घटनाओं का देश काल के हिसाब से एक अर्थ ध्वनित होता है और कुछ स्फुलिंग उस काल खंड से छिटक कर बाहर भी गिरते हैं। कहानी भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन से शुरू हो द्वितीय विश्वयुद्ध से होती हुई भारत में वापस लौटती है। इस कथाकृति के केंद्र में एक घड़ीसाज़ और उसका परिवार है जो ब्रितानी हुकूमत में काम करते हुए नासा तक का सफ़र तय करता है। यह उस परिवार के टूटने-बिखरने-बिलखने की भी कथा है जो त्रासद होने के साथ विडंबनापूर्ण भी है। यह कथाकृति कुछ सवाल हमारे ज़ेहन में छोड़ जाती है। घड़ीसाज़ की बेटी मालती का प्रेम में पड़कर आत्महत्या करना पाठक को टीस देता है। हिंदी के प्रख्यात आलोचक डॉ. नामवर सिंह ने कहा था, कहानी 'क्या' का जवाब देती है और कथानक 'क्यों' का। यह बात इस कथाकृति पर लागू होती है।
रेटिंग्स और रिव्युज़
1 रेटिंग्स
5.0 out of 5
पूर्व गतिविधि
"prem"

very good series

4 Mins 285 पढ़ा गया 2 कमेंट
एपिसोड 2 27-10-2021
4 Mins 131 पढ़ा गया 0 कमेंट
एपिसोड 3 27-10-2021
5 Mins 85 पढ़ा गया 0 कमेंट
एपिसोड 4 27-10-2021
5 Mins 56 पढ़ा गया 0 कमेंट
एपिसोड 5 27-10-2021
5 Mins 48 पढ़ा गया 0 कमेंट
एपिसोड 6 27-10-2021
5 Mins 39 पढ़ा गया 0 कमेंट
एपिसोड 7 27-10-2021
5 Mins 32 पढ़ा गया 0 कमेंट
एपिसोड 8 27-10-2021
4 Mins 25 पढ़ा गया 0 कमेंट
एपिसोड 9 27-10-2021
4 Mins 29 पढ़ा गया 0 कमेंट
एपिसोड 10 27-10-2021
4 Mins 40 पढ़ा गया 0 कमेंट
एपिसोड 11 27-10-2021
5 Mins 36 पढ़ा गया 2 कमेंट
एपिसोड 12 03-01-2022
4 Mins 14 पढ़ा गया 0 कमेंट
एपिसोड 13 03-01-2022
4 Mins 11 पढ़ा गया 0 कमेंट
एपिसोड 14 03-01-2022
4 Mins 8 पढ़ा गया 0 कमेंट
एपिसोड 15 03-01-2022
5 Mins 9 पढ़ा गया 0 कमेंट
एपिसोड 16 03-01-2022
5 Mins 9 पढ़ा गया 0 कमेंट
एपिसोड 17 03-01-2022
4 Mins 10 पढ़ा गया 0 कमेंट
एपिसोड 18 03-01-2022
4 Mins 10 पढ़ा गया 0 कमेंट
एपिसोड 19 03-01-2022
4 Mins 10 पढ़ा गया 0 कमेंट
एपिसोड 20 03-01-2022
4 Mins 20 पढ़ा गया 0 कमेंट

ऐसे ही अन्य