दो होंठों का आख़िर

By आदर्श भूषण 1,364 पढ़ा गया | 4.8 out of 5 (17 रेटिंग्स)
Romance Mini-SeriesEnded4 एपिसोड्स
चूमना प्रेम का सबसे ख़ूबसूरत अहसास है। पहला प्रेम इस अहसास को थोड़ा और रूमानी और यादगार बना देता है। दो होंठों के बीच ऐसे कई अनकहे क़िस्से बनते हैं, जो परछाईं बन कर हमेशा साथ चलते हैं। उससे पहली मुलाक़ात कॉलेज में हुई थी। किसी और के धोखे में वह उससे मिलने आई थी। लेकिन जब तक दोनों यह जान पाते ग़लत पते का यह मकान ही उनका घर बन चुका था। प्रेम की अंतरंगता में डूबते-उतराते उनका जीवन कई सुंदर अहसासों का साक्षी बना। लेकिन भला कोई प्रेम कहानी सिर्फ़ सुंदर और मीठे पलों से बनती है! इन दो प्रेमियों की ज़िंदगी में भी वह पल आया, जहां जिए हुए प्रेम की बस राख बचनी थी।
रेटिंग्स और रिव्युज़
17 रेटिंग्स
4.8 out of 5
पूर्व गतिविधि
"Anagh Sharma"

प्रेम के रूमान और फुहार सी बोलती कहानी। जितना दिखता जाता है उससे ज़्यादा इस ...Read more

"Aparna Shambhawi"

कुछ कहानियाँ आपको विवश कर देती हैं कि आप थोड़ी देर ठहर कर लिखे गए क्षणों को...Read more

"Ambuj Mishra"

आदर्श भाई आपकी ये कहानी अचानक हंसाती फिर डरा भी देती है! 😅Read more

"Sankshep Baranwal"

रचनाकार ने रचनाधर्मिता को पूरी ईमानदारी से जिया है... सभी को गुज़रना चाहिए....Read more

3 Mins 464 पढ़ा गया 8 कमेंट
एपिसोड 2 13-02-2022
4 Mins 347 पढ़ा गया 0 कमेंट
एपिसोड 3 13-02-2022
4 Mins 267 पढ़ा गया 8 कमेंट
एपिसोड 4 13-02-2022
3 Mins 299 पढ़ा गया 21 कमेंट

ऐसे ही अन्य